Loading Now

फॉर पॉलिसी लागू होने पर रिटायर्ड मुलाजिमों ने पंजाब सरकार और वक्फ बोर्ड का जताया आभार, बोले एतिहासिक फैसलों का चल रहा दौर

फॉर पॉलिसी लागू होने पर रिटायर्ड मुलाजिमों ने पंजाब सरकार और वक्फ बोर्ड का जताया आभार, बोले एतिहासिक फैसलों का चल रहा दौर

जालंधर। मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में पंजाब लगातार अागे बढ़ रहा है। पंजाब के लोगों की परेशानियों को दूर करने के लिए लगातार बेहतरीन तरीके से काम हो रहा है। इसी कड़ी में पंजाब वक्फ बोर्ड भी अपने मुलाजिमों के साथ लोगों की परेशानी को दूर करने के लिए मेहनत से काम कर रहा है। सोमवार को वक्फ बोर्ड के रिटायर्ड मुलाजिमों ने एडमिनिस्ट्रेटर व पंजाब पुलिस में एडीजीपी श्री एमएफ फारुकी और मुख्यमंत्री भगवंत मान का अाभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इससे पहले कई इतने बड़े फैसले पंजाब वक्फ बोर्ड में लागू नहीं हुए। एमएफ फारुकी की मेहनत और उनकी तरफ से पूरी इमानदारी के साथ जो स्कीमें लागू की जा रही है इसका सीधा फायदा लोगों को पहुंच रहा है और इसके साथ ही रिटायर्ड मुलाजिम भी इससे बेहद खुश है। उन्होंने कहा कि रिटायर्टमेंट के बाद अब उन्हें एक नई उम्मीद जगी है कि उन्हें भी वित्तीय सहायता का लाभ मिलेगा।
एडीजीपी एमएफ फारुकी की तरफ से पहली बार वक्फ बोर्ड में मुलाजिमों के हित में फाइनांशियल एड अाफटर रिटायर्डमेंट (फॉर) पॉलिसी लागू की है। जिसके तहत वक्फ बोर्ड अपने ए-ग्रेड अफसरों से लेकर ग्रुप-बी मुलाजिम और मौलानाओं को उम्र भर के लिए पेंशन देगा। इसमें ग्रुप-ए अफसरों को 25 हजार रुपए, ग्रुप-बी को 20 हजार, ग्रुप सी को 15 हजार और ग्रुप-डी के मुलाजिमों को 10 हजार रुपए पेंशन के रुप में मिलेंगे। उन्होंने बताया कि इसके लिए काफी विचार विमर्श और पॉलिसी बनाई गई थी। रिटायर्डमेंट के बाद उन्हें इंपावर करने के लिए फाइनांशियल एड पॉलिसी को अप्रूवल दी गई है।
रिटायर्ड मुलाजिमों ने कहा कि पंजाब सरकार की अगुआई में वक्फ बोर्ड लगातार अागे बढ़ता जा रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री भगवंत मान से अपील करते हुए कहा कि वक्फ बोर्ड की जिम्मेदारी एमएफ फारुकी को ही पक्के रुप से दी जाए, क्योंकि पिछले एक साल में लगातार एतिहासिक फैसले लिए जा रहे है, जिससे लोगों का विशवास सरकार और वक्फ बोर्ड दोनों की तरफ और मजबूत होता जा रहा है। इस मौके ऊपर रशीद मोहम्मद अली अब्दुल शकूर मोहम्मद अशरफ बासित अहमद खान मोहम्मद अली शोएब कुरैशी मोहम्मद अशरफ मोहम्मद नुसरत नसीब दिन ताज मोहम्मद राणा मोहम्मद वकील मोहम्मद लियाकत मौजूद थे।

Share this content:

Post Comment